फ्रेंड्स हमारे द्वारा आज discuss किया जाएगा शब्द एंगर का हिंदी मतलव के बारे में सम्पूर्ण जानकारी को विस्तृत रूप में जानेगे जहाँ हम प्रत्येक शब्दों के अर्थो को उनके इफ़ेक्ट, यूज़ को जीवन के बहुत से पहलुओ के साथ जोड़कर चर्चा करेंगे, तो जल्दी से आगे बड़कर सभी जानकारी को जानना स्टार्ट करते है.

Means of Anger in Hindi with Very Simple Tips : 

Means of anger in Hindi -
  •   अप्रसन्नता
  •   कीना
  •   कोप
  •   क्रोध
  •   खीज
  •   खीझ
  •   गुस्सा 
  •   झांझ 

फ्रेंड्स मुझे उम्मीद है कि आपके द्वारा ऊपर बताये प्रत्येक शोर्ट मीनिंग को रीड करके समझ लिया होगा. साथ ही इस्तेमाल भी इंस्टेंट तरीके से कर लिया गया होगा, लेकिन इस स्थिति के चलते मेरा आपसे यह सवाल है कि क्या इन संक्षेप छोटे मतलवो को पढ़ने के बाद इनका तुरंत इस्तेमाल तो अवश्य ही कर लिया गया होगा. 

परन्तु क्या आपको इनको अधिक समय के बाद इस्तेमाल करने में दिक्कत आ रही है या नही ? क्योकि जब इन्हें पढ़कर उसी समय यूज़ में लाया जाए तो कोई परेशानी नही लेकिन इन्हें समय बीतने के साथ भूलना शुरू क्र दिया जाता है. 

हम इस पोस्ट के माध्यम से आपकी इस दिक्कत को सोल्व करेंगे ऐसा इसलिए क्योकि हमने यहाँ बहुत सी बातो को स्टेप बाय स्टेप अच्छी तरह से उपयोग करके एक स्टोरी की तरह अपने दिमाग में सेव करना बताकर इस्तेमाल को अच्छे से explaination को प्रस्तुत किया जो आपकी अच्छी तरह से मददगार होंग, तो आईये फटाफट समय ना गवाकर जल्दी से आगे बड़ते है.



What is Means of Anger in Hindi Tips :


प्रत्येक शब्दों के मतलवो को विस्तार से जाने -

- अप्रसन्नता, दोस्तों जैसा कि हमारे द्वारा बहुत से पीछले आर्टिकल में बताया गया है कि यहाँ इस धरती पर मानव का जन्म एक बुद्धिजीवी के रूप में हुआ जिसके साथ बहुत सी इन्द्रिया भी है जो चीजो को आकर्षित करते हुए मनुष्य को लगातार नचाते हुए विचरण करती रहती है. 

अब इन सब के साथ भावनाए जुड़ी होने के कारण खुशी और गम, प्यार, दूरिया, नजदिकिया के साथ दुःख या इसे अप्रसन्नता भी कह सकते है. इसे यदि थोड़ा ज़ूम करके देखे तो इसका सीधा सा मतलव कि अपने मुताबिक काम ना होना या चीजो का ना मिल पाना भी इसे उत्पन्न करता है उदाहरण के तौर पर हमारे चारो तरह से लोगो के द्वारा व्यक्त करते देखा गया होगा.

- क्रोध, देखिये अपने अनुसार कार्य ना होना, दूसरो से बहस करते हुए नेक्स्ट स्तर तक पहुँच जाना आदि कारणों के चलते आपके अन्दर दिमाग में कुछ ऐसे केमिकल निकलने लगते है जो आपको गुस्सा दिलाने के लिए जिम्मेदार सावित होते है. ऐसे बहुत से कारण चारो तरफ रोजमर्रा की लाइफ में देखने को मिलेंगे, लेकिन यह हर एक व्यक्ति के लिए समान ना होकर अलग होता है क्योकि प्रत्येक व्यक्ति की मानसिकता भिन्न तथा सहनशक्ति अलग - अलग होती है.

- नाराजगी, दोस्तों हम एक सामाजिक प्राणी होने के नाते रिस्तो और संस्कारो के चलते एक दूसरे से अलग - अलग स्तर पर जुड़े रहते है ऐसा भी आपने सुना होगा कि 'जब कुछ बर्तन साथ होंगे तो आवाज तो करेंगे ही' इसी बात की पुष्टि भी इन आपस में जुड़े लोगो से कह सकते है क्योकि एक साथ एक ही छत के नीचे रहने से आपस में कुछ कहाँ सूनी तो होती ही रहती है. ऐसे अनगिनत example हमारे चारो ओर भरे पड़े है.

सभी के प्रभावों को रीड करे -

- अप्रसन्नता, जब कोई बीना खास वजट दुखी रहता है जो फिर जीने का कोई मतलव नही रह जाता है क्योकि जीवन वे वजह अप्रशन्न रहने के लिए नही बल्कि पूरी तरह खुलकर इसे महसूस करने के लिए बना है. अगर कोई व्यक्ति दुखद स्थिति में लम्बे समय तक बना रहे तो इसका बूरा प्रभाव खुद के साथ दूसरे जुड़े लोगो पर भी अवश्य देखने को मिलेगा और यह आदत प्रगति को रोकेगी.

- क्रोध, जरूरत से ज्यादा क्रोध किसी के लिए भी सही नही होता है मैं यह नही कह रहा कि गुस्सा करना ही बंद कर दो इसका समय - समय पर यूज़ करना अच्छा तथा जीवन से जुड़े लोगो और कार्यो में बैलेंस करता है जो दोनों प्रकार से जिंदगी को प्रभावित करता है.

- नाराजगी, यह भी कुछ मात्रा में ठीक परन्तु हमेशा और ज्यादा समय तक बिल्कुल भी ठीक नही सावित होगा और यह जीवन जीने का सही तरीका कतई नही है इसलिए थोड़ा बैलेंस करते हुए जीवन में उतारने पर परिणाम अच्छे सावित होते है.

उपयोग को जानिये -

- अप्रसन्नता, अपनी मर्जी का नही होने को इस वर्ड के द्वारा व्यक्त करते है.
- क्रोध, अपनी आवश्यकता के खिलाफ परिवर्तन के चलते इसे दर्शाया जाता है.
- नाराजगी, आपस की कुछ नापसंद बातो को व्यक्त करने के लिए इस्तेमाल करते है.

मुझे आशा है आपके द्वारा पोस्ट Anger Means in Hindi with full Uses को रीड कर लिया गया और अच्छे से जानकर उपयोग में लाकर काफी मदद मिली होगी. अपने बिचारो को कमेंट करके जरुर से बताये. 

Post a Comment

Previous Post Next Post