दोस्तों हम जानने वाले हिंदी शव्दकोश के शब्द एक्ट का हिंदी अर्थ वो भी पुरे विस्तार के साथ प्रत्येक पहलू पर बात करने बाले है. Means of Act in Hindi को विथ उदाहरण पूरी परिभाषा को अच्छी तरह समझने हेतु इस आर्टिकल को आखिर तक अवश्य पढ़े. तो फिर देरी ना करके चलिए स्टार्ट करते है.

Act Means in Hindi with Jobs :


Meanings of act in Hindi -
  •  कर्म
  •  कानून
  •  काम
  •  कार्य
  •  कृति
  •  चरित
  •  नाटक
  •  नियम
  •  वास्तविकता
  •  नाटक का एक भाग

अब तक तो दोस्तों आपके द्वारा ऊपर दिए गए प्रत्येक संक्षेप शब्द को पढ़ लिया गया होगा. अब मेरा एक सवाल ये है कि क्या इन प्रत्येक शोर्ट वर्डो को पढ़ने के बाद आपके दिमाग में इनसे रिलेटेड उठने वाले सवालों के जवाव को हल करने में हेल्प मिली और जो भी confusion थे वो क्या दूर हुए ? तो अब आप में से बहुतो का आंसर यही होगा कि अभी तक उन्हें उस लेवल की जानकारी नही मिल पायी जो मिलनी चाहिए थी. 


तो दोस्तों आपकी जानकारी के लिए हम बता दे कि हमारे द्वारा इतना बड़ा आर्टिकल ऐसे ही नही लिखा गया हमने इस पोस्ट में इन शब्दों को बहुत अच्छी तरह उनके बेस्ट उदाहरण के साथ प्रत्येक पहलू जैसे उपयोग प्रभाव आदि को व्यक्त किया ताकि आप इन्हें पढ़कर स्मरण करके जब भी इनका करना हो तब आसानी से कर सके. तो फ्रेंड समय ज्यादा ना गवाते हुए जल्दी से आगे बढ़कर आगे चलते है.



What is Means of Act in Hindi and Definition :


हर एक अर्थो को पढ़े -

- कानून, यदि हम वर्ड को कानून के साथ जोड़कर देखे तो हमारे देश में बहुत से कानून है जो अलग - अलग नियमो और दायरों को ध्यान रखने हुए बनाये गए. इनकी संख्या बहुत ज्यादा है यहाँ कि हमे याद भी नही होगी क्योकि इस धरती पर इंसानों ने काफी सारी चीजे बनाई. 

इन चीजो का निर्माण भलाई के लिए किया गया लेकिन बाद में कुछ लोगो के द्वारा इन्हें गलत आदतों के चलते बूरे कार्यो को अंजाम देने में इस्तेमाल करना शुरू कर दिया जिसके चलते हानि का सामना करना पड़ा. इसी के चलते इन्हें रोकने के लिए अदालते बनाई और साथ ही प्रत्येक विपरीत कार्य करने वाले लोगो और चीजो के लिए बहुत से नियम बनाये गए. जिनके पालन करना सभी मनुष्य के लिए बहुत जरुरी होता है.

- कर्म, देखिये हम सभी एक मानव रूपी जीव के चलते इस धरती पर आये है बहुत से महात्माओ के द्वारा इस कलयुगी भूमि को कर्म भूमि के नाम से भी बताया गया. ऐसा बताने का सीधा कारण कलयुग में कर्म को ही प्रधान बताया गया याने कि यदि आपके द्वारा अच्छे कर्म करना ही काफी है. इस युग में. हालाकि इस बात से हम नकार नही सकते कि इस युग में इस प्रकार के कार्य याने कि अच्छे और बुर करने बाले दोनों तरह के व्यक्ति मौजूद है जो जाने या फिर अनजाने में अच्छे या गलत कामो में लिप्त रहते है.

- नाटक, दोस्तों आप और हम इस भागती - दोड़ती और एक जैसे काम को करते हुए थक या बोर हो जाते है. इसी के चलते मनोरंजन को अपनाकर थकान को दूर करने हेतु कुछ इंडस्ट्री आई और साथ ही बहुत से कलाकारों को अपना बेस्ट प्रदर्शन देने का मौका भी मिला. इससे आम लोगो को मनोरंजन करने को मिला तथा तनाव को दूर करने में थोड़ी राहत भी मिला.

इनके प्रभाव को जाने - 

- कानून, यदि देखा जाए तो कानून और नियमो को बनाने का एक मात्र कराना विपरीत मानसिक वाले लोगो के द्वारा किये जाने वाले गलत कार्यो को रोकने हेतु बनाये गए. इस प्रकार के कानून हमारे समाज, देश को अपराध मुक्त करने के साथ प्रत्येक प्रकार के नियमो के उलंघन को रोकने के लिए काफी कारगर सावित हुए है. इनका हमेशा अच्चा इफ़ेक्ट होने के कारण देश की ग्रोथ को भी बढावा मिलता है.

- कर्म, इन्सान एक वुद्धिजीवी होने के नाते उसके दिमाग में गलत के साथ कुछ अच्छे बिचार भी चलते रहते है हालाकि दिमाग इतना पावरफुल है कि यह प्रक्रिया बहुत तेजी से होती है. बस इन्हें वुद्धि के स्तर पर समझकर उन पर एक्ट किया जाता है कुछ लोग अच्छे काम कुछ बुरे काम के लिए एक्शन में आते है अव इनका परिणाम और प्रभाव दोनों स्तर पॉजिटिव और नेगेटिव पर देखने को मिलता है.

- नाटक, आज इन्टरनेट का दौर तेजी से बड़ने के साथ मनोरंजन के रूप भी बदल चुके है पहले रेडियो टीवी आज मोबाइल सबसे बड़ा साधन बन गया है. कुछ मायनों में यह पैदा करता है जो वेहतर देश के लिए ठीक नही है.

प्रत्येक वर्ड के यूज़ को जानिये -

- कानून, गलत कार्यो को रोकने हेतु बनाये नियमो को इसके द्वारा व्यक्त करते है. 
- कर्म, रोजमर्रा की जिंदगी में किये जाने बाले अच्छे और बूरे कार्यो को इस वर्ड से समझ सकते है.
- नाटक, मनोरंजन के स्तर को दर्शाने हेतु यूज़ में लिया जाता है.

फ्रेंड मैं उम्मीद करता हूँ कि आपके द्वारा पोस्ट Act Means in Hindi को पढ़कर शानदार तरीके से काफी कुछ समझने को मिला होगा. अपने विचार और सुझाव नीचे कमेंट अवश्य करे. इसी प्रकार की जानकारी के लिए हमारे साथ लगाकर जुड़े रहे.

Post a Comment

Previous Post Next Post