आज हम बात करने बाले है वर्जिन का हिंदी मतलव(मीनिंग) के बारे में. तो चलिए देर ना करते हुए Means of Virgin in Hindi को शोर्ट और डिटेल्स में जानते है.

VIRGIN Means in Hindi and Some Examples :


मीनिंग ऑफ़ वर्जिन इन हिंदी -

Noun                                                Adjective
 - कुँवारी.                                               - पवित्र.
 - कन्या राशि में उत्पन्न व्यक्ति.                    - प्राकृतिक.
 - अक्षतयोनि.                                         - विशुद्ध.
 - अछूती धरती.                                       - शुद्ध.
 - कन्या राशि.                                        - स्वाभाविक.
 - कुमारी.                                             - अछूता.

मुझे उम्मीद है आपने वर्जिन का हिंदी मतलव(मीनिंग) के संक्षेप मतलवो को पढ़कर जान लिया होगा. अब आगे क्या आप एक - एक मतलव को विस्तार में पढ़ना पसंद करेंगे ? चुकी यहाँ हमने सभी जानकारी को अच्छे से वर्णित किया है ताकि इन्हें पढ़ने के बाद आपके सारे डाउट ख़त्म हो जाए.

ये इनफार्मेशन आपके माइंड में हमेशा के लिए स्टोर हो जाए. तो चलिए समय जाया ना करके जल्दी से पेज ऊपर स्क्रोल करके पढ़ना स्टार्ट करे.



Meaning of Virgin in Hindi and Uses :


सभी मतलवो की डिटेल्स -

- कुंवारी, शब्द के मतलब का तात्पर्य एक ऐसी लड़की से है जिसकी अभी तक शादी नही हुयी या कोई शारीरिक संबंध नही हुआ. चूकी यह शब्द स्त्रीलिंग की तरफ इशारा करता है तो हम वर्जिन को इसी से रिलेट करके समझने की कोशिश करेंगे. इसके अंर्गत किसी भी मादा प्राणी को लेते है.


उदा. कोई लड़की या स्त्री(मादा) वर्जिन की श्रेणी में आती है मतलब उसकी शादी नही हुयी या अभी तक किसी पुरुष(नर) के साथ शारीरिक तौर पर संबंध नही हुआ है. यदि हम बात करे वर्जिन कि तो इसका होना या ना होना एक प्रकार से शादी पर डिपेंड नही करता है, हालाकि संबंध बनाना शादी के बिना भी पॉसिबल है. 

- पवित्र, शब्द का मतलब कोई ऐसी वस्तु जिसका खंडन ना हुआ हो. ise हम आध्यात्मक की द्रष्टि से समझे तब घर में उपलब्ध भगवान की मूर्ति को तब तक पवित्र माना जाता है जब तक उसमे किसी प्रकार का खंडन नही होता है याने उसे अपवित्र ना मानकर पवित्र की श्रेणी में कहा जायेगा.

- प्राकृतिक, इसका तात्पर्य ऐसी वस्तु, चीज या कुछ भी जो प्रकृति द्वारा खुद से अपने आकार - प्रकार में बदलाब करती है. इसे ही दर्शाता है और यह प्राकृतिक रूप जो कि वर्जिन को दर्शाता है तब तक कह सकते है तब तक कि बाहरी कोई चीजे इसमें हस्तक्षेप ना करे. इनके इस रूप में बने रहने के लिए ये जरुरी भी है कि जैसे ये है. इसी तरह बनी रहे. यह सिध्दांत सभी नेचुरल बनी चीजो पर लागू होता है, चाहे फिर वो कुछ भी हो.

- मूलरूप, इसे हम कुछ इस प्रकार समझ सकते है जो किसी वस्तु को उसके मूल स्वरूप में बने रहने को दर्शाता है याने यह मूल रूप जो वस्तु खुद से ही अपने आप में परिवर्तन लाती है और यह तब तक ही बना रहेगा जब तक की कोई बाहरी बदलाब या हस्तक्षेप का असर इस पर ना पड़े.

वर्जिन को हम इन सभी मतलवो को ध्यान रखकर ऐसे भी समझ सकते है. मान लो कोई चीज, वस्तु, इंसान जो अपने ही तरीको से बड़ रहा या खुद में बदलाब कर रहा है और यह वर्जिन उतने ही समय के लिए माना जायेगा जब तक कि कोई बाहरी सोर्स में बदलाब ना कर दे. 

इनके प्रभाव -

- कुवांरी, चूकी यहाँ वर्जिन को मादा से रिलेट किया गया है, हम इंसान रूप स्त्री को लेकर चलते है. हमने ऊपर इसे एक्सप्लेन क्र चुके है. अब इसके इफ़ेक्ट को समझते है, चूकी हम एक भारतीय समाज में रहते है और यहाँ बहुत से मायनों में स्त्री को घर की लक्ष्मी भी माना जाता रहा है तथा परिवार, समाज और देश में सम्मान की द्रष्टि से देखा जाता है. 

इसके चलते भारतीय संस्कृति के बोल - बाला पुरे विश्व में विख्यात है. लेकिन अब यदि इसके विपरीत परिणाम की बात करे तो यह बहुत भयंकर और समाज के लिए घातक सिद्ध होते है. यह केवल तक ही हो सकता है. जब स्त्री अपनी मर्यादाओ का उलंघन कर बैठे. काफी दुष्परिणाम देखने को मिल सकते है.

- पवित्र, हालाकि यह शब्द आध्यात्मिकता की ओर इशारा करता नजर आता है. हमने ऊपर इसके बारे में काफी कुछ बताया कि कैसे एक मूर्ति पवित्र और अपवित्र की श्रेणी में आती है. हमारे घर जो भी भगवान की पूजा के लिए मुर्तिया होती है उनका पवित्र मतलव उनमे कोई टुटा भाग या खंडन नही होना चाहिए क्योकि यह पवित्रता को बतलाता है ऐसी मान्यता बहुत सालो से हमारे समाज, परिवार के बाद पुरे देश में मानी जाती है.

इस तरह यह अच्छाई हो गयी, लेकिन अपवित्र मतलब किसी प्रकार का कोई खंडन होने पर इसके परिणाम नकारात्मक प्रकट भी होते है. ऐसा हमारी संस्कृति में माना जाता है इसलिए खंडित मूर्तियों का जलधारा या नदियों में बहां दिया जाने की प्रथा काफी लंबे समय से चली आ रही है.

- प्राकृतिक, कुल मिलाकर ऐसी वस्तुये जो प्रकृति द्वारा बनाई या रची गयी है. इसी प्रकार ये सभी is श्रेणी में आती है, चाहे फिर वे कुछ भी हो जो is धरती पर उपस्थित हो. ऐसी हम अपने आसपास बहुत सी नेचुरल चीजे देखते है जिनमे कोई भी बदलाब हमारे द्वारा ना होकर खुद व खुद होता है. ये सभी प्रकृति का करिश्मा है जो कि ये सब घटित होता है वैसे देखे तो इनका बुरा प्रभाव कम और अच्छा ज्यादा देखने को मिलते है.

- मूलरूप, चूकी इस धरती पर पायी जाने बाली प्रत्येक वस्तुओ कुछ भी हो सकता है जो अपने मूल सिध्दांत का पालन करके अपने स्वरूप में बदलती रहती है ये सब प्रक्रिया खुद ही होती है. इनमे हमारा या बाहरी कोई हस्तक्षेप काफी प्रभावी हो सकते है और इन बातो पर डिपेंड करेगा कि हस्तक्षेप कितना बड़ा है वैसे ही परिणाम उतने बड़े रूप में नकारात्मक और सकरात्मक सामने लाते रहेंगे.

इनके उपयोग -

- कुंवारी, इस शब्द का उपयोग किसी स्त्री(मादा) के लिए किया जाता है जिसकी अभी तक शादी नही हुई है.

- पवित्र, हम इसका यूज़ कोई मूर्ति जो खंडित अवस्था में ना होकर सही सलामत पूजा के काबिल है, के लिए करते है.

- प्राकृतिक शब्द का उपयोग प्रकृति द्वारा बनाई चीजो जिनमे हमारा कोई हस्तक्षेप नही है, के लिए करते है.

- मूलरूप इनका यूज़ धरती की चीजे जिनमे मूल सिध्दांत के चलते परिवर्तन खुद से होता है, किया जाता है.

आपको यह पोस्ट Virgin Means in Hindi की जानकारी वर्जिन का हिंदी मतलव(मीनिंग) के साथ बहुत ज्यादा फायदेमंद लगी होगी क्योकि हमने इन्हें शोर्ट के साथ डिटेल्स में पेश किया गया है. इसके साथ काफी ऐसे ही सवाल अक्सर पूछे जाते है जैसे "Virgin" Means in Hindi Language के जबाब भी हमने देने की कोशिश की है शायद आपको पसंद आये होंगे. अधिक वर्ड के लिए सर्च बॉक्स का इस्तेमाल करे.

Post a Comment

Previous Post Next Post